आध्यात्मिक साधकों द्वारा केश रखने और न रखने का क्या कारण है?

aadhyatmik sadhakon dwara kesh rakhne aur na rakhne ka kya karan hai

आध्यात्मिक साधकों द्वारा केश रखने और न रखने का क्या कारण है? मेरे कुछ पाठकों ने प्रश्न किया है की आध्यात्मिक साधना पथ पर अग्रसर  कुछ साधक अपने सिर और चेहरे के बाल क्यों निकाल देते हैं हैं, जबकि अन्य उन्हें बड़ा करते हैं? आध्यात्मिक साधकों द्वारा केश रखने और न रखने का क्या कारण है? दरअसल विभिन्न आध्यात्मिक पथों पर चलनेवाले साधक विभिन्न चिन्हों को धारण करते है जो उन विभिन्न साधना पद्धितियों में उपयोगी होती है, केश रखना या उनका त्याग करना या निकाल देना उनकी साधना और संन्यास की प्रक्रिया का अंग होते हैं। बुद्ध और जैन[…]

Read more