धुम्रपान की आदत कैसे छुड़ाई जा सकती है?

धुम्रपान की आदत कैसे छुड़ाई जा सकती है?

अब आप खुद सोचिये एक सिगरेट आपसे ज्यादा शक्तिशाली है, एक बेहद मूर्खतापूर्ण और नुकसानदायक बुरी आदत और आप उसकी गुलामी से नहीं छूट पा रहे लानत है आप पर।

Read more
lamp

क्या हिन्दू, दुनिया में सबसे ज्यादा उदारवादी है?

क्या हिन्दू, दुनिया में सबसे ज्यादा उदारवादी है? जी हाँ, और सबसे ज्यादा मूर्ख भी, आप पूरे विश्व का इतिहास देख लीजिये, जितनी दरियादिली और उदारता हिन्दुओं ने दूसरे सभी संप्रदाय और जाति और मूल के लोगो के साथ निभाई है ऐसा और कौन है, यहाँ सभी को समान अधिकार और सम्मान दिया गया है। यहाँ तक के जिन जाति के लोगो ने इस देश पर हमला किया, और सैकड़ों वर्षों तक शासन किया उन्हें भी स्वीकार और अंगीकार किया, बिना किसी भेदभाव के और पक्षपात के बल्कि उन्हें तो यहाँ के मूल निवासियों से ज्यादा अधिकार और सुविधाएँ उपलब्ध[…]

Read more
israel flag

क्या भारत को इजराइल बनना होगा?

क्या भारत को इजराइल बनना होगा? यदि ऐसा हो जाये तो इससे बेहतर कुछ भी नहीं हो सकता, लेकिन ऐसा होगा नहीं कभी भी यहाँ , क्यूंकि इसके लिए देश के हर निवासी मे अपने राष्ट्र के लिए मर मिटने का जज्बा होना चाहिए जो इस देश के लोगो मे कभी का ख़त्म हो चुका है। हा हा हा खुदगर्ज़, मक्कार और देशद्रोहियों से भरे इस देश की इजराइल जैसे महान और देशप्रेमियों से भरे उसके लिए अपना सर्वस्व अर्पण करने के लिए तैयार इसराइलियों से कोई भी तुलना नहीं, यहाँ तो देश को बेचनेवाले, इसका सौदा और टुकड़े टुकड़े[…]

Read more
ब्राह्मण कौन है और कहाँ से आए हैं?

ब्राह्मण कौन है, और कहाँ से आए हैं?

ब्राह्मण कौन है, और कहाँ से आए हैं? सर्वप्रथम, ब्राम्हण कोई जाति नहीं है, जो कहीं से आई है या आएगी यह मिथ्या धारणा है, इसका कोई भी वजूद नहीं है, ब्राम्हण एक विशिष्ट मानसिक, आध्यात्मिक स्थिति है मनुष्य की, कोई भी व्यक्ति विशिष्ट गुणों से युक्त होकर ब्राम्हण हो सकता है‍‍। वैदिक काल एवं इसके पूर्ववर्ती ऋषियों ने मनुष्य के हजारों साल के अध्धययन से यह पाया की मनुष्य की जीवन व्यवस्था और प्रवृत्तियों के अनुसार चार मूल प्रवृत्तियां और जीवन दिशाएं है जो पूरे समाज मे मौजूद व्यक्तियों की मानसिक, शारीरिक और आध्यात्मिक समझ और क्षमता और जीवन[…]

Read more
कृष्ण

क्या रामायण और महाभारत वास्तविक है?

यह एक गंभीर और व्यापक समस्या है इन दिनों, इस देश की आधी से ज्यादा आबादी अपनी वास्तविकता से ही इनकार कर रही है, १२०० वर्षों की गुलामी और पिछले ७० वर्षों से कांग्रेस और वामपंथी लेखकों और विचारकों ने इतना विरूपण किया है, हमारी सभ्यता और संस्कृति का लोग अपमान करने लगे हैं और अपने आप पर ही संदेह करने लगे है।

Read more
interconnectedness-e1536662022165.jpg

क्या आपको लगता है कि हम सभी आध्यात्मिक या मानसिक रूप से जुड़े हुए हैं?

क्या आपको लगता है कि हम सभी आध्यात्मिक या मानसिक रूप से जुड़े हुए हैं? यह प्रश्न मेरे ब्लॉग एवं Quora के प्रबुध्द पाठक द्वारा पूछा गया है  इस पूरे ब्रम्हांड का एक एक परमाणु आपस मे जुडा है, सम्बद्ध है। चाहे इसके बारे मे कोई समझ या प्रतीति हमे हो या नहीं। एक छोटा सा प्रयोग करके देखिये आप अपने आसपास किसी भी प्रसन्न और मुस्कुराते व्यक्ति, या बच्चे को देखिये, आपके अंदर भी कुछ खिलने लगेगा। इसी तरह किसी उदास और रोते हुए व्यक्ति को देखिये आपके अंदर भी थोड़ी उदासी और दर्द उतर जायेगा। कोई आप की[…]

Read more