गुरू बिना गति नहीं, क्या यह सत्य है?

गुरू बिना गति नहीं, क्या यह सत्य है?

मै इस कथन से पूर्णतया सहमत हूं, मनुष्य एक मात्र ऐसा प्राणी है जिसे जन्म से लेकर मृत्यु तक जीवन और जगत के संबंध में सब कुछ जानना और सीखना होता है, इसके बिना हम बेहतर जीवन जीने लायक नहीं बन सकते और ना ही करने योग्य और ना करने योग्य का बोध पा सकते है।

बिना उचित जानकारी, समझ और स्पष्ट दृष्टि के हम अपने और दूसरों के लिए समस्याएं और अनचाही बातों और घटनाओं की सृष्टि करके अपना और उनका जीवन कष्टकारी बनाते रहेंगे।

हमें सदैव बेहतर परिणाम उत्पन्न करने के लिए अभ्यास करना पड़ता है, कुशलता अर्जित करने पड़ती है, और इसके लिए एक सक्षम और योग्य गुरु की आवश्यकता होती है।

जीवन के सैकड़ों आयाम है और हमें अपने जीवन का सर्वांगीण विकास करने के लिए जीवन के विभिन्न तलों और अवस्थाओं पर विभिन्न क्षमता और योग्यता धारण करने वाले गुणवान और योग्य व्यक्तियों की आवश्यकता पड़ती है।

ताकि हम अपने संसाधनों, शक्ति और समय का अपव्यय या दुरुपयोग किए बगैर समुचित ज्ञान और कुशलता अल्प समय में लाभकारी परिणाम उत्पन्न करने के लिए अर्जित कर सकें। उस विशिष्ट,कार्य और प्रतिभा का अर्जन किसी विशिष्ट गुण संपन्न अनुभवी व्यक्ति या प्रशिक्षक के सानिध्य में ही संपन्न हो सकता है।

गुरू बिना गति नहीं, क्या यह सत्य है?

एक योग्य और गुणी गुरु या शिक्षक हमें अल्प समय और सही प्रशिक्षण और अभ्यास द्वारा कुशल एवं प्रभावी अभ्यर्थी के रूप में रूपांतरित कर सकते है, और हमें जीवन भर ऐसे लोगो के साथ और सहयोग की आवश्यकता पड़ती रहती है।

जो जीवन को समझते है वो जानते है कि जीवन सीखते रहने और जानने की अनंत प्रक्रिया है, और यह सक्षम गुरु या प्रशिक्षक के बिना संभव नहीं, यह गुरु कोई भी हो सकता है, जो उस विशिष्ट ज्ञान और योग्यता, कुशलता और अनुभव से संपन्न हो।

आप स्वयं भी ही सकते है, कुछ बातों के संबंध में, लेकिन विशिष्ट ज्ञान और कुशलता के लिए आपको उस आयाम में श्रेष्ठ व्यक्ति की आवश्यकता पड़ेगी क्योंकि जीवन बहुत छोटा है खुद से हर बात सीखने के लिए ना समय है, ना पर्याप्त बुद्धि और शक्ति, और ना आवश्यक संसाधन अतः जीवन के प्रत्येक आयाम के लिए गुरु अपरिहार्य है, इसका कोई भी विकल्प नहीं।

गुरु हमारे अंदर छिपी हुई शक्तियों को जागृत करने में सहायक होते हैं, वो एक उत्प्रेरक कि तरह कार्य करते है, उनकी उपस्थिति और संयोग से वो बातें भी घटित होने लगती है, जो महज एक संभावना थी।

हम सब एक प्राकृतिक घटना के जीवन भर साक्षी रहते है वो है जल वर्षा का होना, हम सभी ने पढ़ा है कि पानी ऑक्सीजन और हाइड्रोजन के परमाणुओं के संयोग से बनता है, लेकिन इसके लिए बिजली का होना आवश्यक है वरना उनके मध्य संयोग नहीं होगा और पानी निर्मित नहीं होगा, आकाश में चमकने वाली बिजली की वजह से ही वातावरण में मौजूद दोनों के अणु संयोजित होकर जल का निर्माण करते है, बिना विद्युत यह घटना घटित नहीं हो सकती।

विद्युत एक उत्प्रेरक के रूप में क्या करती है, उसकी उपस्थिति के बगैर, जल का निर्माण नहीं हो सकता, यही कार्य एक श्रेष्ठ और सक्षम गुरु का हम सभी के जीवन में है, उनकी उपस्थिति और प्रेरणा के बगैर हमारे जीवन में कुछ भी विराट और जीवंत घटित नहीं हो सकता, वो सदा एक संभावना ही रहेगा एक सत्य और यथार्थ नहीं बन सकेगा।

गुरु एक अल्केमी, एक परम रसायन है जो आपको कोयले से हीरा और पत्थर से सोने में बदलने की क्षमता और हुनर रखते है, ऐसे कृपालु और सक्षम गुरु की प्राप्ति जीवन का सबसे बड़ा उपहार और आशीर्वाद होता है, इसके लिए हमें अपनी पात्रता विकसित करनी होती है, गुरु स्वयं प्रकट हो जाते है।

गुरु बिना ज्ञान नहीं होता, हमारी खोज और प्यास हमें सदगुरु तक ले जाती है, गुरु का आश्रय और कृपा परम आवश्यक है, भटकन और व्यर्थता से बचने के लिए और जीवन से जो कुछ भी बहुमूल्य मिला है उसके सही उपयोग और सार्थकता उपलब्ध करने के लिए।

एक प्रश्न यह भी उठता है जब गुरु उपलब्ध ना हो तब क्या करें? यह सत्य है जब आप संकट या असमंजस में हो और कोई आपको उस दुविधा से बाहर निकालने के लिए दिशा निर्देश और मार्गदर्शन देने वाला ना हो उस दशा में निरीक्षण, अवलोकन और स्वविवेक से निर्णय लेना होता है।

जीवन सबसे बड़ा गुरु है यदि आप सजग है, और अपने आप और अपने वातावरण के प्रति सजग है तो आपको इंगित मिलते है जैसे आपको ट्रैफिक के नियम पता ना हो आप सड़क के दाईं और चलने लगिए आपको अपने सामने आने वाला हर व्यक्ति अजीब निगाहों से देखेगा शायद आप कुछ लोगों से टकरा भी जाएं।

आप इससे बच सकते है यदि आप सड़क पर चलनेवालों के तरीके का अवलोकन करें, आप पाएंगे कि वहां एक व्यवस्था निर्मित है कि बाईं और से चलिए, पैदल चलने वालों, और छोटे, बड़े वाहनों के लिए अलग गति और लेन निर्धारित है।

यह व्यवस्था और नियम, प्रकृति, समाज और जीवन सब जगह घोषित और अघोषित रूप से मौजूद है, यदि आप खोज, निरीक्षण और अवलोकन करने के इच्छुक है तो आपके सामने सब कुछ प्रकट हो जाएगा चाहे वो किसी भी आयाम के संबंध में हो।

लेकिन यह गुण और क्षमता बहुत कम लोगों में पाई जाती है, अर्जित और विकसित सभी कर सकते हैं, और संबंधित आयाम से जुड़े गुरु आप के लिए सब कुछ बेहद आसान, सहज रूप से उपलब्ध करा सकते है, इसलिए गुरु अपरिहार्य है।

हमारे माता पिता, शिक्षक, बुजुर्ग, अनुभवी और गुणी मित्र औेर समस्त उपलब्ध, ज्ञान, विज्ञान, जानने और सीखने के स्रोत और संसाधन और वातावरण यह सब हमारे गुरु है, इनके बिना हम जीवन में कुछ भी बेहतर और सार्थक अपने और सभी के लिए निर्मित नहीं कर सकते, अतः गुरु बिना जीवन में कोई गति संभव नहीं।

धन्यवाद।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *