क्या भारतीय संस्कृति सेक्स विरोधी है?

क्या भारतीय संस्कृति सेक्स विरोधी है? वर्तमान समय में हमारे समाज में प्रचलित बहुत सारी मान्यताएं और विचार मूलतः हमारी संस्कृति का अंग कभी नहीं रहे है, यह सब पिछले 1000 साल की गुलामी से उपजे सांस्कृतिक अपदूषण, अवमूल्यन का परिणाम है। सेक्स का दमन या विरोध कभी भी हमारी संस्कृति और जीवन शैली का हिस्सा नहीं रहे है, यहां रूपांतरण और विकास पर जोर है दमन और प्रतिबंध पर नहीं, पिछले 75 साल मे इस देश की आबादी 30 करोड़ से 130 करोड़ हो गयी यह इस बात का सबूत है की हमारी संस्कृति सेक्स विरोधी नहीं है और हमरे[…]

Read more

क्या इस्लाम वाकई खतरे में है?

क्या इस्लाम वाकई खतरे में है? Quora पर किसी प्रबुद्ध पाठक ने यह प्रश्न किया है जी हाँ इस्लाम बहुत खतरे मे है, उन लोगो की वजह से नहीं जो इस्लाम के अनुयायी नहीं हैं, वरन उन लोगो की वजह से जो इस्लाम के नाम पर सारी धरती को नरक बनाये हुए हैं। यही लोग इस्लाम के वास्तविक दुश्मन हैं और रहेंगे सदा। पिछले 1400 साल से, जिन्होंने मुहम्मद साहब का जीवन भर विरोध किया, उन्हें अपने ही जन्मस्थान से बरसों तक दूर रहने पर मजबूर किया और उनके परिवार का क़त्ल किया, और इस्लाम को दुनिया मे एक भद्दी[…]

Read more

युवाओं के शिक्षित होने के बावजूद बेरोजगारी क्यों है?

युवाओं के शिक्षित होने के बावजूद बेरोजगारी क्यों है? Quora पर मेरे एक पाठक ने यह प्रश्न पूछा है शिक्षा दर में बढोतरी के बावजूद महिलाओं में नौकरी की ललक कम क्यों है? यहाँ इस प्रश्न का उत्तर समस्त तथाकथित शिक्षित युवाओं को ध्यान मे रखकर दिया गया है, शिक्षित होना और विभिन्न कार्यों के लिए उचित कुशलता, अनुभव और आत्मविश्वास का होना बिल्कुल अलग बात है, हमारे अधिकांशतः तथाकथित शिक्षित व डिग्री धारी युवक युवतियों में व्यावहारिक व व्यावसायिक कुशलता और अनुभव का पूर्णतया अभाव होता है। यह हमारे देश में बेरोजगारी और सारे उपद्रव और असंतोष की वजह है, लोग कुशलता[…]

Read more

क्या आध्यात्मिकता सेक्स विरोधी है?

क्या आध्यात्मिकता सेक्स विरोधी है? Quora पर मेरे एक पाठक ने यह प्रश्न पूछा है क्या आध्यात्मिकता का उद्देश्य आपको सेक्स से दूर ले जाना है? आध्यात्मिकता का उद्देश्य आपको अपने अस्तित्व से जुड़े सभी आयामों के प्रति जागरूक करना है। यह आपको अपने शरीर और मन में होने वाली क्रियाओं और प्रतिक्रियाओं से प्रति सजग करने की व्यवस्था है, साथ ही अस्तित्व के सभी आयामों तक ले जाने का मार्ग और प्रक्रिया है, यह आपकी कामेच्छा और कम ऊर्जा के श्रेष्ठतम और कल्याणकारी उपयोग की और जाने का मार्ग है। आध्यात्मिकता आपको अपनी समस्त ऊर्जा को सकारात्मक और रचनात्मक रूप से[…]

Read more

ईश्वर और धर्म के नाम पर झगड़े क्यों होते हैं?

ईश्वर और धर्म के नाम पर झगड़े क्यों होते हैं? Quora पर मेरे एक पाठक ने यह प्रश्न पूछा है यदि ईश्वर एक ही है और इंसानियत ही धर्म है तो फिर धर्म के नाम पर झगड़े और मार-काट क्यों होते हैं? सर्वप्रथम ईश्वर नाम की कोई चीज नहीं है, यह मनुष्यों की इजाद है, अपने आपको बहलाने के लिए, यह संपूर्ण ब्रह्मांड, यह विशाल अनंत अस्तित्व ही सत्य है, इसका कोई बनानेवाला या संचालन कर्ता नहीं है, यह स्वनिर्मित और स्वसंचालित है। ईश्वर एक कल्पना है यथार्थ नही, मनुष्य इस विराट अस्तित्व से सीधे संबंधित या संयुक्त नहीं हो सकता[…]

Read more

विकसित राष्ट्र क्रिकेट में कोई रुचि क्यों नहीं रखते?

विकसित राष्ट्र क्रिकेट में कोई रुचि क्यों नहीं रखते? Quora पर मेरे पाठक ने यह प्रश्न पूछा था  कि इतने सारे पैसे से जुड़ने के बावजूद, चीन, रूस, फ्रान्स, जर्मनी और जापान के लोग क्रिकेट में कोई रुचि क्यों नहीं रखते? क्या इनमें से कोई क्रिकेट में, विश्व में सर्वश्रेष्ठ बन सकता है? क्रिकेट अधिकांशतः सिर्फ ब्रिटेन के द्वारा शासित देशों में खेला जाता है, जिन्हें अंग्रेजों ने गुलाम बनाया और अपने उपनिवेशों कि तरह अपनी हुकूमत के तले रखा, कोई भी ज्यादा रचनात्मक रुचि रखनेवाले राष्ट्र इस बेहूदे खेल में रुचि नहीं रखते, क्यूंकि यह समय और संसाधनों की[…]

Read more